पढि़ए प्रतिदिन : एक नया गीत

Monday, July 1, 2019

गीत 93 : तुमि जे काज करछो, आमाय

तुम करते जो काम, मुझे क्या
उसमें नहीं लगाओगे।
कार्य-दिवसों में, मुझे क्या तुम
अपने हाथों न जगाओगे?
अच्छे-बुरे, उत्थान-पतन में
दुनिया के संहार-सृजन में
जो संग तुम्हारे खड़ा हो पाऊँँ
तब क्या तुमसे जाना जाऊँँ।

सोचा था निर्जन छाया में
जहाँँ न न कोई आता-जाता
परिचय होगा उसी जगह पर
सांध्य-काल में मेरा-तेरा।
अंधकार में एकाकी
तुमसे मिलना मानोंं सपना
बुला लो मुझे अपने बाजार
होता जहाँँ बेचना-खरीदना।

Monday, June 17, 2019

गीत 92 : देवता जेने दूरे रइ दाँड़ाये

देवता जान दूरी बनाए रखूँ,
अपना समझ, न आदर जताऊँ ।
कह पिता, करूँ चरण–स्पर्श,
बंधु कह, दोनों हाथ पकड़ न पाऊँ ।
स्वयं ही तुम अति सहज प्रेम में
मेरे बनकर, आए यहाँ उतरकर
इसी सुख में छाती से लगाकर
संगी कह तुम्हें वर न पाऊँ ।

भाइयों में तुम भाई हो, प्रभु,
तभी मैं तुम्हारी ओर न तकता,
बाँट आया भाइयों में धन अपना
तुम्हारी मुट्ठी क्यों न भर पाऊँ ।
सबके सुख–दुख में हो शामिल
तुमसे मेरा क्या मुकाबला,
जान लगाता क्लांतिहीन कामों में
प्राण–सागर में कूद न पाऊँ ।

Friday, May 31, 2019

गीत 91 : एइ करेछो भालो, निठुर

यह अच्छा किया, ओ निष्ठुर,
यह अच्छा किया ।
ऐसा कर तुमने मेरा हृदय
प्रज्वलित किया ।
मुझ पर यह धूप न पड़े तो
कोई गंध नहीं बनती
मेरा यह दीप न जले तो
रोशनी नहीं फैलती ।

जब रहता अचेतन
यह चित्त मेरा
स्पर्श ही तो है पुरस्कार
तेरे आघात का ।
मोह–लाज के अंधकार में
न देख पाऊँ आँखों से तुझे
मेरे कलंक को आग लगा
वज्र–सा गढ़ो मुझे ।

Thursday, May 30, 2019

गीत 90 : आरो आघात सइबे आमार

और आघात सहेगा मेरा,
झेल भी लेगा मुझको
और कठिन सुर में झनकारो
जीवन के इन तारों को ।
जो राग जगाते मेरे प्राणों में
बजा न अब तक चरम तान में
निष्ठुर मूर्च्छना में है पड़ा वह
गान से मूरत को संचारो ।

बजे न उस पर केवल
कोमल करुणा
मृदु सुर से व्यर्थ करो न
इन प्राणों को ।
जल उठें सकल हुताश
गरज पड़ें सकल वातास
जगाकर सकल आकाश
पूर्णता का विस्तार करो ।

Tuesday, May 28, 2019

गीत 89 : आमार ए प्रेम नय तो भीरू

मेरा यह प्रेम न तो भीरू है,
न ही हीनबल,
क्या यह केवल व्याकुल होकर
गिराएगा अश्रुजल ।
मंद–मधुर सुख में शोभा में
प्रेम को क्यों नींद में डुबोए ।
तुम्हारे संग जागना वह चाहे
आनंद में पागल ।

नाचता जब भीषण वेश में
ताल के तीव्र स्वर गूँजते
भागता त्रस्त हो, लज्जित हो
संदेह में विह्वल ।
इसी प्रचंड मनोहर रूप में
मानों प्रेम मेरा वरण करे
क्षुद्र आशा का स्वर्ग उसका
जा पड़े रसातल ।

Monday, May 27, 2019

गीत 88 : चाइ गो आमि तोमारे चाइ

चाहती, मैं तुम्हीं को चाहती
तुम्हीं को चाहती मैं--
यह बात सदा है मन में
पर कह न पाती मैं ।
और जो कुछ वासना में
घूमता–फिरता रात–दिन
झूठ है वह, झूठ है सब, बस
तुम्हीं को चाहती मैं ।

जैसे रात छिपाए रखती
आलोक की प्रार्थना ही--
वैसे ही गहन मोहवश
तुम्हीं को चाहती मैं ।
झंझा जब भंग करती शांति
वह भी प्राणों में चाहे शांति,
वैसे ही तुम पर आघात कर भी
तुम्हीं को चाहती मैं ।

Friday, May 24, 2019

गीत 87 : छिन्न क'रे लओ हे मोरे

तोड़ लो मुझे तुम हे,
और न करो देर
झड़कर न धूल में मिल जाऊँ
यह भय मुझे दे टेर।
यह फूल तुम्हारी माला में
गूँथ पाएगा, यह नहीं जानता
पर शायद तुम्हारा आघात
हो उसका भाग्यलेख
तोड़ लो, तोड़ लो,
और न करो देर।

जाने कब दिन ढल जाएगा
अंधकार के साथ आएगा
जाने कब तुम्हारी पूजा–बेला
गुजर जाएगी अदेख।
जितना भी इसमें रंग भरा है
गंध–सुधा से हृदय भरा है
अपनी सेवा में वही स्वीकारो
जब तक है यह बेर
तोड़ लो, तोड़ लो,
और न करो देर।