पढि़ए प्रतिदिन : एक नया गीत

Thursday, September 23, 2010

गीत 53 : नामाओ नामाओ आमाय तोमार

झुका दो, झुका दो मुझको अपने
चरण तल में,
करो मन विगलित, जीवन विसर्जित
नयन जल में।

अकेली हूँ मैं अहंकार के
उच्च शिखर पर-
माटी कर दो पथरीला आसन,
तोड़ो बलपूर्वक।
झुका दो, झुका दो मुझको अपने
चरण तल में।

किस पर अभिमान करूँ
व्यर्थ जीवन में
भरे घर में शून्य हूँ मैं
बिन तुम्हारे।

दिनभर का कर्म डूबा मेरा
अतल में अहं की,
सांध्य-वेला की पूजा भी
हो न जाए विफल कहीं।

झुका दो, झुका दो मुझको अपने
चरण तल में,

1 comment: