पढि़ए प्रतिदिन : एक नया गीत

Monday, July 12, 2010

गीत 5 : अंतर मम विकसित करो


चित्त मेरा विकसित करो
हे अंतरयामी!
निर्मल करो, उज्ज्वल करो,
सुंदर करो हे।
जाग्रत करो उद्यत करो,
निर्भय करो हे।
मंगल करो, निरलस निःसंशय करो हे।
चित्त मेरा विकसित करो
हे अंतरयामी!

जोड़ो मुझे सबके संग,
मुक्त करो बंध,
संचरित करो सब कर्मों में
अपने निर्वेद छंद।

निःस्पंदित करो चित्त मेरा अपने पद-पद्मों में
नंदित करो, नंदित करो,
नंदित करो हे।
चित्त मेरा विकसित करो
हे अंतरयामी!

No comments:

Post a Comment